ग्रामीण विकास मंत्रालय ने स्वयं सहायता समूहों को जिओमार्ट से जोड़ने उठाया अहम कदम

Date:

Share post:

ग्रामीण विकास मंत्रालय (एमओआरडी) ने दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) के स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के उत्पादों की बाजार तक पहुंच बढ़ाने में मदद करने के अपने प्रयासों के तहत रिलायंस रिटेल के जिओमार्ट के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं, ताकि ग्रामीण एसएचजी कारीगरों को सशक्त बनाया जा सके।

इस अवसर पर अपने संबोधन में ग्रामीण विकास मंत्रालय में अपर सचिव, ग्रामीण आजीविका चरणजीत सिंह  ने कहा कि इस समझौते से एसएचजी को जिओमार्ट के ई-कॉमर्स फोल्ड पर विक्रेताओं के रूप में शामिल होने का मौका मिलेगा। इस पहल से सरस संग्रह के तहत बड़े उपभोक्ता आधार तक एसएचजी उत्पादों को उपलब्ध कराने के एमओआरडी के प्रावधान को और बढ़ावा मिलेगा। इस समझौते से एसएचजी को बड़ा बाजार मिलेगा और इसकी मौजूदगी में विस्तार होगा। इससे पूरे भारत में जिओमार्ट के ग्राहकों को अपने क्यूरेटेड उत्पाद बेचने का मौका मिलेगा। एमओआरडी और जिओमार्ट के बीच इस साझेदारी से डीएवाई-एनआरएलएम से जुड़े सभी एसजीएच विक्रेताओं को अपने व्यवसाय को ऑनलाइन बढ़ाने में लाभ और मार्गदर्शनमिलेगा।

सिंह ने यह भी कहा कि डीएवाई-एनआरएलएम और जिओमार्ट के बीच यह साझेदारी एसएचजी दीदियों की आय बढ़ाने की दिशा में मंत्रालय के प्रयासों को आगे बढ़ाएगी। यह मिशन नियमित आधार पर एसएचजी की आय बढ़ाने के लिए काम कर रहा है और यह कदम इस दिशा में हमारी पहल को बढ़ाएगा।

ग्रामीण विकास मंत्रालय की संयुक्त सचिव  स्वाति शर्मा ने हितधारकों की सराहना करते हुए कहा कि मंत्रालय एसएचजी की आजीविका के अवसरों को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और जिओमार्ट के साथ यह साझेदारी इस दिशा में मददगार साबित होगी।

ग्रामीण विकास मंत्रालय में ग्रामीण आजीविका निदेशक राघवेंद्र प्रताप सिंह ने इस समझौते के प्रमुख उद्देश्यों का संक्षिप्त विवरण दिया और कहा कि एसएचजी की ताकत को अब राष्ट्र पहचाने लगा है और इसे स्वीकार किया है। उन्होंने कहा कि इस तरह की साझेदारी सरस (एसएआरएएस) जैसी विभिन्न विपणन पहल को भी मजबूत करेगी।

रिलायंस रिटेल लिमिटेड में सार्वजनिक नीति और नियामक के अध्यक्ष और प्रमुख डॉ. रवि प्रकाश गांधी ने इस साझेदारी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि एमओआरडी के साथ यह साझेदारी भविष्य में ऐसे कई उपयोगी समझौतों के लिए हमारा पहला कदम है। हम सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ पहल पर दृढ़ता से विश्वास करते हैं। यह साझेदारी इस दिशा में हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत करती है। हमारा लक्ष्य देश में डिजिटल रिटेल इकोसिस्टम को बदलना है। इस सहयोग के माध्यम से हम लाखों एसएचजी के विकास को मजबूती और डिजिटलीकरण की सुविधा भी देना चाहते हैं। मुझे यकीन है कि यह पहल भारत में स्थानीय कारीगरों और छोटे व्यवसायों के जीवन को बदलने और उनकी आजीविका को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

जिओमार्ट एसएचजी को मार्केटप्लेस पर अपने खाते को संचालित करने के लिए आवश्यक सेट-अप तैयार करने में भी मदद करेगा। इसके अतिरिक्त, जिओमार्ट विक्रेताओं को पोर्टल पर बिक्री संबंधी कार्य करने मे सक्षम बनाने के लिए एमओआरडी द्वारा आयोजित प्रशिक्षण और कार्यशालाओं में संयुक्त रूप से भाग लेगा। उन्होंने बताया कि निरंतर विकास और व्यावसायिक स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए, जिओमार्ट एसएचजी विक्रेताओं को बाज़ार में अपना व्यवसाय बढ़ाने में मदद करने के लिए प्रशिक्षण और सहायता प्रदान करेगा और जिओमार्ट प्लेटफ़ॉर्म पर विभिन्न प्रकार के मार्केटिंग प्रमोशन में भाग लेने की भी पेशकश की जाएगी।

यह समझौता एमओआरडी के सरस संग्रह ब्रांड के तहत एसएचजी को जिओमार्ट पर लाएगा। इससे जिओमार्ट पर पारंपरिक वस्त्रों से लेकर रसोईघर का सामान, गृह सजावट और सौंदर्य उत्पादों तक हथकरघा और हस्तशिल्प उत्पाद उपलब्ध होंगे ।

क्या है  दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन –

डीएवाई-एनआरएलएम भारत सरकार का प्रमुख गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम है और ग्रामीण गरीबों की आजीविका में सुधार के लिए दुनिया की सबसे बड़ी पहल है। यह मिशन चार मुख्य घटकों ए) सामाजिक लामबंदी और ग्रामीण गरीबों के स्व-प्रबंधित और वित्तीय रूप से टिकाऊ सामुदायिक संस्थानों को बढ़ावा देना और मजबूत करना; (बी) ग्रामीण गरीबों का वित्तीय समावेशन; (सी) टिकाऊ आजीविका; और (डी) सामाजिक समावेशन, सामाजिक विकास और सम्मिलन में निवेश के माध्यम से अपने उद्देश्य को प्राप्त करता है

क्या है रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड –

आरआरवीएल अपनी सहायक कंपनियों और सहयोगियों के माध्यम से किराना, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स, फैशन तथा जीवन शैली और फार्मा उपभोग उत्पादों में 18,040 स्टोर और डिजिटल वाणिज्य प्लेटफार्मों का एक एकीकृत ओमनी-चैनल नेटवर्क संचालित करता है और अपनी नई वाणिज्य पहल के माध्यम से 30 लाख से अधिक व्यापारियों के साथ साझेदारी की है। इसकी एफएमसीजी सहायक कंपनी रिलायंस कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड का लक्ष्य एक बहुमुखी ब्रांड पोर्टफोलियो के तहत उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करना है जो लाखों भारतीयों की दैनिक जरूरतों को पूरा पूरा करे।

जिओमार्ट रिलायंस रिटेल की ई-टेल शाखा है –

जिओमार्ट उद्यमियों को सशक्त बनाने और उन्हें भारत के सबसे बड़े घरेलू ई-मार्केटप्लेस प्रदान करके भारत में एसएमबी समुदाय को मजबूत करने का प्रयास करता है। यह अपनी सुविधाजनक सेवाओं, विविध उत्पादों, उपयोग में आसान इंटरफ़ेस, तेज डिलीवरी और अद्वितीय सौदों के साथ विक्रेताओं और खरीदारों को उत्कृष्ट अनुभव प्रदान करना चाहता है। 20 से अधिक श्रेणियों में 20 लाख से अधिक उत्पादों और एक मजबूत आपूर्तिकर्ता आधार के साथ यह स्वदेशी ई-मार्केटप्लेस भारत में डिजिटल वाणिज्य क्षेत्र को बदलने के लिए तैयार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

PM Modi Speech : राज्यसभा में पीएम मोदी का सम्बोधन आज

PM Modi Speech PM Modi Speech : पीएम नरेंद्र मोदी आज राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद...

Clean Green Colony Award : क्लीन ग्रीन कॉलोनी अवार्ड देगा नगर निगम

Clean Green Colony Award Clean Green Colony Award :रायपुर : क्लीन ग्रीन कॉलोनी अवार्ड देगा नगर निगम,पंजीयन के लिए...

Surguja Crime News : कक्षा छठवीं की छात्रा ने लगाई फांसी

Surguja Crime News Surguja Crime News : सरगुजा : आर्चि सिन्हा कार्मल स्कूल की छात्र ने लगाई फांसी देर...

Chhattisgarh Assembly Budget Session : छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र का तीसरा दिन भी हंगामेदार रहेगा

Chhattisgarh Assembly Budget Session   Chhattisgarh Assembly Budget Session : रायपुर : छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र का तीसरा दिन...